विकृत धर्मनिरपेक्षता की बाध्यता

ऐसे समय जब घातक और जानलेवा कोरोना वायरस से पूरा विश्व जूझ रहा है, पूरे भारत में, अरबों लोग घर पर ही रह रहे हैं, कई विस्थापित हैं, कई आर्थिक तंगी का सामना कर रहे हैं, फिर भी सभी सहयोग कर रहे हैं। लेकिन लोगों का एक समूह इसे स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की अवहेलना और हमले का प्रदर्शन बना रहा है। यह देशव्यापी हो रहा है। मार्कज में शामिल लोगों की तलाश में गयी पुलिस के उपर पथराव किया गया. स्वास्थ्य चिकित्सकों, पैरा मेडिकल स्टाफ और पत्रकारों पर थूका जा रहा है. यह कोई इकलौती घटना नहीं है… यह बिहार में, गुजरात में, तमिलनाडु में, मध्यप्रदेश में, झारखंड में… पूरे देश में हो रहा है।
महामारी रोग अधिनियम 1897 के तहत, पुलिस को उन कोविद -19 संदिग्धों, जो डॉक्टरों पर थूक रहे हैं, या पुलिस पर पथराव और गोली चला रहे हैं, उनपर गोली चलाने का आद दिया जा सकता है. इसे अदालतों में कानूनी रूप से चुनौती भी नहीं दी जा सकती। लेकिन क्या कभी इसका इस्तेमाल किया जाएगा? नहीं! हमारे देश की विकृत धर्मनिरपेक्षता की बाध्यता ऐसे उपायों की अनुमति नहीं देती है।

इसमें ना तो कोई संदेह है ना किसी बहाने की ज़रूरत कि देश के वीसा नियमों का व्यवस्थित रूप से उल्लंघन हुआ है। गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय दोनों के पास जवाब देने के लिए बहुत कुछ है। ये लोग देश अंदर कैसे पहुंचे? क्या हमारे खुफिया एजेंसियों को इस बारे में पता था कि क्या चल रहा है और इसकी सीमा क्या है?

हालाँकि, हमारे वीसा नियम पर्यटक वीजा पर आए विदेशियों को धर्म प्रचार करने की अनुमति नहीं देते हैं। ये नियम सोनिया गाँधी के नेतृत्ववाली कांग्रेस के समय से ही खुली वीसा प्रणाली भारत द्वारा अपनाई गई, जिसका मोदी सरकार द्वारा और विस्तार किया गया जो की इस परिस्थिति में सबसे बड़ा बाधक सिद्ध हो रहा है। एक मानकप्रक्रिया को इस प्रकार संहिताबद्ध करना आसान नहीं है जो हवाई अड्डे पर एक इमीग्रेशन अधिकारी को यह निर्धारित करने की अनुमति देगा कि कोई धार्मिक उपदेशक है या नहीं। एक बार जब वे देश में प्रवेश कर जाते हैं, तो हमारे पास उन्हें नियंत्रण में रखने के संसाधनों का अभाव होता है।

हमें यह भी ध्यान में रखना चाहिए हमारे पुलिस बाल के पास देश के अल्पसंख्यकों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने पर हज़ारों तरह के “पीड़ित कार्ड” खेले जाते हैंl अल्पसंख्यक ख़तरे में हैंl मोदी सरकार फासीवादी-हिंदूवादी सरकार हैl और ना जाने क्या क्या! ऐसा इसलिए है क्योंक हम पिछले 70 वर्षों से धर्मनिरपेक्षता के अजीबोगरीब रूप का अनुसरण कर रहे हैं। इन दिनों, अल्पसंख्यकों पर कोई सही कानूनी कार्रवाई भी सबसे पहले “इस्लामोफोबिया” के आरोप को आकर्षित करती है। क्या आपने कल देखा, ऐसे समय में, जेएनयू में एक छात्र मेन गेट पर विरोध में बैठता है, गार्ड पर चिल्लाता है कि वह उस पर थूक देगा और कोरोना वायरस फैलाएगा यदि उसे परिसर छोड़ने की अनुमति नहीं है? हम चाहते तो हैं, पर क्या आप समझते हैं कि पुलिस कोई कठोर कार्रवाई कर सकती है? नहीं, इसे सीधे तौर पर फासीवाद कहा जाएगा।
हालाँकि, यह सच्चाई वर्तमान केंद्र सरकार को उनकी जिम्मेदारियों से मुक्त नहीं करती है!

हमने वीडियो देखा कि कैसे एक पुलिस वाले ने एक मौलाना से मस्जिद खाली करने की अपील की, और कैसे उग्रता से वह इसके खिलाफ बहस करता है। आम तौर पर पुलिस ४-५ बेंत लगाकर, सभी कब्जेदारों से छुटकारा पा लिया होताl लेकिन नरेंद्र मोदी और अमित शाह की सरकार में इन अपराधियों के प्रति इतनी सहनशीलता है, कि पुलिस भी उन्हें छूने से डरती है। और विडंबना देखिए कि उन्हें ही फासीवादी कहा जाता है।
जेएनयू से लेकर जामिया तक, और फिर शाहीन बाग में, बिना किसी वाजि कारण के आंदोलन और दंगे करवाए गये. फिर जब उन्हें कोई रास्ता नहीं मिला तो इसे सांप्रदायिक हिंसा में बदल दिया, पुलिस और आईबी अधिकारी की हत्या की गयीl मेरी ईमानदार राय पूछें, तो मोदी सरकार ऐसे अल्पसंख्यक आपराधिक तत्वों को कानूनन नियंत्रण में लाने में पूरी तरह से लचर रही है।

मोदी सरकार, ख़ास कर दिल्ली-एनसीआर में कानून-व्यवस्था लागू करने में नाकामयाब रही है, और इसकी भारी कीमत गैर-मुस्लिमों को चुकानी पड़ी है। वर्तमान में एकमात्र आशा की किरण उत्तर प्रदेश की सरकार है, जहां मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने सभी नागरिकों के लिए धर्म की परवाह किए बिना समुचित कानून-व्यवस्था लागू किया है।

यह देश में उभरती एक कमज़ोरी की घड़ी हैl कल्पना कीजिए कि NSAअजीत डोभाल को व्यक्तिगत रूप से रात के 2 बजे मार्काज़ नेताओं से विनती करनी पड़ती है ताकि वे उनके स्वास्थ्य परीक्षण की अनुमति दें और कोरोना परीक्षण किया जा सके! भारतीय राज्य को आज फिरौती की कसूति पे कसा जा रहा हैl यदि ईमानदारी से देखें तो सरकार के पास शायद कोई दूसरा विकल्प भी नहीं था, जिसकी मुख्य जिम्मेदारी अभी 1.3 अरब लोगों के जीवन और हमारे देश के भविष्य को बचाने की है। जिस तरह से यह वायरस विश्व भर में फैल रहा है, यह समय शायद किसी भी टकराव का नहीं है। यहां तक ​​कि समुदाय के नेता भी इसे जानते हैं और वे देश की स्थिति और सरकार के अपमान का आनंद ले रहे हैं।

इस समय भारत सरकार उनके संपर्क में आए सभी लोगों का पता लगाने की सख्त कोशिश कर रहा है। इन्हीं के दोस्तों, परिवार, रिश्तेदारों और हर किसी से, जिनसे ये जुड़े हैंl सड़क पर हर आम व्यक्ति, हर देशवासी और देश को बचाने की खातिर। एक मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति भी समझ सकता है कि किस बात से उसे शारीरिक रूप से उन्हें क्या नुकसान होगा, लेकिन यह पंथ नहीं।

शाहीन बाग में मरने वाले छोटे बच्चे की घटना याद है, जिस माँ ने कहा कि यह उसका ‘बलिदान’ था? अब आप ही सोचें, की हम इन जैसे लोगों से कैसे निपटेंगे जो अपनी मौत की भी परवाह नहीं करते हैं।

और हम उन लोगों के साथ उनकी बराबरी करते हैं जो जीवन के बारे में परवाह करते हैं। – प्रवासी कामगार!

अब तक एक भी प्रवासी कामगार कोरोना संक्रमण से सकारात्मक नहीं पाया गया है। अत्यंत ही सुनियोजित रूप से उकसाने के बाद, उत्तेजित प्रतिक्रिया में हज़ारों प्रवासी श्रमिक 24 घंटों के लिए सड़कों पर निकल आए थे. लेकिन टूरनत ही समय की नज़ाकत को समझा और इससे पहले कि पुलिस ने उन्हें बचाया और निर्देशित किया, हजारों प्रवासी श्रमिकों ने ना तो सिर्फ़ धैर्य से इंतजार किया, बल्कि सभी निर्देशों का पालन किया। वे अधिकारियों से भिड़ते नहीं थे। गरीब प्रवासी कामगार खुद को, नकारात्मक परीक्षण के बावजूद, आत्म-संगरोध (self-quarantine) में डाल रहे हैं, भूख और थकान से जूझ रहे हैं, लेकिन अभी तक ऐसे कोई संकेत नहीं हैं, की वे लोगों को संक्रमित कर रहे हैं। कम से कम जानबूझकर नहीं।

सिर्फ़ दिल्ली में ही, कोविद की संख्या बढ़कर 216 हो गई, इनमें से 188 मरीज तब्लीगी मरकज़ से हैं। भारत भर में कुल कोरोना वायरस के एक-तिहाई से अधिक सकारात्मक मामले तब्लीगी जमात से जुड़े हैंI

भारत इन कट्टरपंथी इस्लामवादियों से सदा तंग है। हालाँकि, मोदी सरकार को इस बात का एहसास यदि नहीं है तो होना चाहिए कि ये कट्टरपंथी इस्लामवादी भारत की समग्र प्रगति के लिए एक गंभीर खतरा हैंl उनके साथ मजबूती से पेश आने का एकमात्र तरीका है कानून का दृढ़ और निर्बाध अनुप्रयोग।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s